Friday, February 21, 2020

मोए का पतो....

पेड़ गिरा कें बिल्डिंग बन गईं
खाट झुपड़ियाँ संग उखड़ गईं
सांस घुटे ल्यो घामऊ  बढ़ गई
जे का भओ?

मोए का पतो... 

दो थे कमरा आठ जना जब
संग रहत थे खात-मिलत तब
चील बिलैया लड़त फिरें अब 
जे का है गओ?
मोए का पतो....

मौड़िन के सब पैर छुअत थे
नाम पे बिनके खूब भिड़त थे
लछमी घर की प्रेम करत थे
ओ मैया! अब का भओ?
मोए का पतो.....

चैये पैसा, पर काम न कत्त
पढ़ें न लिक्खें, हाथ में लट्ठ
देस का नाम तो है गओ सट्ट
जे का है गओ?
मोए का पतो.....

देस इकट्ठो पैले भओ थो
अंग्रेजन नों कूट दओ थो
बाके बाद धरम उग गओ थो
जे काय उग गओ?
मोए का पतो....

जितऊँ चिताओ आग बरत है
जात -पात  की हवा चलत है
जान की नेकऊ ना कीमत है
जे का कद्दओ?
मोए का पतो.... 

सिगरे एक दिना रोवेंगे 
का खावेंगे का पीवेंगे 
छाती पीट पछाड़ें लेंगें 
ओ दैया, फिर का होएगो? 
मोए का पतो.... 
मोए का पतो....😞
- कॉपीराइट © प्रीति 'अज्ञात'

7 comments:


  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शनिवार(२२-०२-२०२०) को 'शिव शंभु' (चर्चा अंक-३६१९) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  2. अरे वाह हमें तो समझ आ गयी बहुत प्यारी रचना है प्रीति जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब ,सुंदर सृजन ,सादर नमन

    ReplyDelete
  5. सबकुछ आँखो के सामने ही बदल गया कुछ पता ही नहीं चला कब ये स्वार्थी युग आ गया

    चैये पैसा, पर काम न कत्त
    पढ़ें न लिक्खें, हाथ में लट्ठ
    देस का नाम तो है गओ सट्ट
    जे का है गओ?
    मोए का पतो.....

    सुन्दर प्रस्तुति

    हूबहू मुलाकात  पधारे

    ReplyDelete
  6. सिगरे एक दिना रोवेंगे
    का खावेंगे का पीवेंगे
    छाती पीट पछाड़ें लेंगें
    ओ दैया, फिर का होएगो?
    मोए का पतो....
    मोए का पतो.... वाह देसी भाषा मन को छू गई, बहुत सुंदर और सार्थक रचना 👌

    ReplyDelete
  7. Alright...

    This may sound really creepy, maybe even kind of "strange"

    BUT what if you could just push "PLAY" and LISTEN to a short, "magical tone"...

    And INSTANTLY attract MORE MONEY to your LIFE???

    And I'm really talking about hundreds... even thousands of dollars!!!

    Do you think it's too EASY??? Think it's IMPOSSIBLE?!?

    Well then, I'll be the one to tell you the news.

    Many times the most magical miracles in life are the SIMPLEST!!!

    Honestly, I'm going to provide you with PROOF by allowing you to listen to a real-life "miracle money-magnet tone" I developed...

    And do it FREE (no strings attached).

    You just press "PLAY" and the money will start coming into your life... starting almost INSTANTLY...

    CLICK here to experience this magical "Miracle Money Sound Frequency" - it's my gift to you!!!

    ReplyDelete