Wednesday, April 30, 2014

ज़िंदगी

मैंने देखे हैं -
सपने बुनते हुए लोग
और ढहते हुए ख़्वाब
जगमगाती हुई एक रात
और सिसकते जज़्बात
मचलते हुए अरमान
और टूटता आसमान !

महसूस की है -
मुस्कुराहट में छिपी उदासी
और अंदर की बदहवासी
महफ़िल में बसी खामोशी
और हर इक कोना वीरान
हालात से चूर-चूर
और जीने को मजबूर !

और जाना इस राज़ को -
कि मुरझाए से कुछ चेहरे
हर पल बदलते रिश्ते
टूटते हुए घरौंदे
उदासी की छाई बदली
भीगे हुए-से पल
ही तो प्रतिबिंब हैं
उस 'शै' का
जिसे 'ज़िंदगी' कहते हैं....!

प्रीति "अज्ञात'

7 comments:

  1. इस उधेड़बुन, बनते-बिगड़ते घरौंदो, अधूरे ख़्वाब और अनकहे जज़्बात का ही नाम तो ज़िंदगी है..
    सुंदर अल्फाज़ और उतने ही उम्दा अहसासों से सजी बेहतरीन रचना..

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत खूबसूरत ! हर पंक्ति मन की गहराइयों से निकली प्रतीत होती है और

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत खूबसूरत ! हर पंक्ति मन की गहराइयों से निकली प्रतीत होती है

    ReplyDelete
  4. शुभ प्रभात
    खूबसूरत अभिव्यक्ति
    उम्दा रचना

    ReplyDelete
  5. अंकुर जी, सुशील कुमार जी, संजय जी, विभा रानी जी, यशवंत जी...आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया :)

    ReplyDelete